ALL समाचार मनोरंजन खेल अध्यात्म देश दुनिया ब्रेकिंग राज्य ज्योतिष BUSINESS
वन्यजीवों पर लेंटाना झाड़ी से पड़ रहे प्रभाव के चलते लेंटाना उन्मूलन के लिए कार्यशाला हुई
November 12, 2019 • रजनीश कोहली सतोपथ एक्सप्रेस • देश

रजनीश कोहली ऋषिकेश-वन्यजीवों पर लेंटाना झाड़ी से पड़ रहे प्रभाव के चलते लेंटाना उन्मूलन के लिए कार्यशाला हुई आयोजित।
राजाजी नेशनल पार्क व आस पास के वन डिवीजनों में बढ़ रही लेंटाना झाड़ियों की वजह से वन्य जीवों पर पड़ रहे प्रभाव को देखते हुए लेंटाना उन्मूलन अभियान के तहत दो दिवसीय कार्यशाला आयोजित की गयी।
राजाजी नेशनल पार्क टाईगर रिजर्व क्षेत्रान्तर्गत गौहरी वन रेंज के चौरासी कुटी में दो दिवसीय लेंटाना घास झाड़ियों को जमीनी स्तर पर समाप्त करने के उद्देश्य से वन भूमि को उपयोगी बनाने के लिए कार्यशाला आयोजित कर विभिन्न वन रेंजों से आये वनाधिकारियों को वाईल्ड लाईफ विंग उत्तराखंड, सेंटर फॉर इनवायरमेंटल मैनेजमेंट ऑफ डिग्रीडिड इकोसिस्टम ऑफ यूनिवर्सिटी ऑफ दिल्ली व स्कूल ऑफ ह्यूमन इकोलॉजी ऑफ अम्बेडकर यूनिवर्सिटी दिल्ली के विशेषज्ञों ने प्रशिक्षण दिया गया।
इस दौरान राजाजी नेशनल पार्क टाईगर रिजर्व के निदेशक पी0के0 पात्रों ने बताया कि वन क्षेत्रों में बहुत तेजी से लेंटाना झाड़ियों की तादात बड़ी है जिससे वन्य जीवन पर भी इसका खासा असर पड़ रहा है, उन्होंने बताया कि उक्त कार्यशाला में कई वन्यजीव विशेषज्ञों द्वारा लेंटाना झाड़ी के उन्मूलन के लिये अपने सुझाव भी रखे जिससे वह क्षेत्रों में पनप रहे लेंटाना को पूर्ण रूप से समाप्त किया जा सके, साथ ही कार्यशाला में मौजूद वनाधिकारियों से भी लेंटाना को समाप्त करने के लिए सुझाव भी लिए गये, उन्होंने बताया कि आज मंगलवार को आयोजित कार्यशाला में स्क्रीन पर स्लाइडों द्वारा लेंटाना के बारे में जानकारी दी गयी वही बुधवार को चीला वन रेंज में जमीनी स्तर पर लेंटाना को समाप्त करने के उपायों को बताया जाएगा।उन्होंने बताया कि उक्त कार्यशाला में राजाजी नेशनल पार्क क्षेत्रान्तर्गत गौहरी, चीला, हरिद्वार, बेरिवाड़ा, कांसरो, मोतीचूर, रामगढ़, रवासन, लालढांग, ऋषिकेश व नरेंद्रनगर वन प्रभाग के वनाधिकारियों ने प्रतिभा किया।