ALL समाचार मनोरंजन खेल अध्यात्म देश दुनिया ब्रेकिंग राज्य ज्योतिष BUSINESS
उत्तराखंड के सभी धार्मिक स्थानों का भ्रमण कर छड़ी यात्रा पहुंची हरिद्वार
October 12, 2020 • सतोपथ एक्सप्रेस • समाचार

जहाँगीर मलिक

संतो ने पहाड़ पर हो रहे पलायन के विषय मे चिंता जाहिर करते हुए सरकार से दुर्गम क्षेत्रो में सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त करने की मांग बीती 17 सितंबर को हरिद्वार से उत्तराखंड के चार धाम मठ मंदिरों धार्मिक स्थलों के भ्रमण के लिए रवाना हुई प्राचीन पौराणिक छड़ी यात्रा आज हरिद्वार के जूना अखाड़ा स्थित माया देवी मंदिर में अपनी यात्रा पूर्ण कर वापिस लौटी है छड़ी यात्रा के हरिद्वार लौटने पर भारी संख्या में मौके पर मौजूद साधु-संतों ने पौराणिक छड़ी यात्रा का भव्य स्वागत किया उत्तराखंड के कई मठ मंदिरों धार्मिक स्थलों के दर्शन कर यह प्राचीन छड़ी हरिद्वार स्थित जूना अखाड़े में रखी जाएगी उत्तराखंड की संस्कृति सभ्यता पर्यटन राज्य में हो रहे पलायन को रोकने के साथ धर्म का प्रचार प्रसार इस यात्रा का मुख्य उद्देश्य है वही प्राचीन छड़ी यात्रा के हरिद्वार वापस लौटने के दौरान अखाड़ा परिषद के महामंत्री हरि गिरी ने राज्य के पहाड़ पर हो रहे पलायन के विषय मे चिंता जाहिर करते हुए सरकार से दुर्गम क्षेत्रो में सभी व्यवस्थाएं दुरुस्त करने की मांग की जिस से उत्तराखंड में हो रहे पलायन को रोका जा सके। आपको बता दे कि जूना अखाडे द्वारा प्राचीन काल से इस छड़ी यात्रा को निकला जाता है मगर पिछले करीब 70 सालों से यह छड़ी यात्रा किन्ही कारणों से बंद हो गई थी प्राचीन समय से यह छड़ी यात्रा बागेश्वर से निकली जाती थी दो साल पहले जूना अखाड़ा के हरिगिरि महाराज ने मुख्यमंत्री से इस प्राचीन छड़ी यात्रा को दुबारा शुरू करने की अनुमति मांगी थी और इस प्राचीन छड़ी को हरिद्वार लाकर स्थापित कर दिया था पिछले साल सरकार की अनुमति मिलने के बाद इस छड़ी यात्रा को दुबारा शुरू किया गया है और इस बार दूसरे वर्ष भी उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस छड़ी यात्रा को उत्तराखंड के चारधाम यात्रा के लिए रवाना किया था आज यह छड़ी यात्रा उत्तराखंड राज्य का भ्रमण कर हरिद्वार वापस लौटी है हरिद्वार की जूना अखाड़ा स्थित माया देवी मंदिर वापस पहुंची प्राचीन छड़ी यात्रा के मौके पर अखाड़ा परिषद के महामंत्री और जूना अखाड़े के राष्ट्रीय महामंत्री हरि गिरि महाराज का जहां इस प्राचीन छड़ी का इतिहास बताया तो वही उनका कहना है कि इस यात्रा का मुख्य उद्देश्य उत्तराखंड में पर्यटन को बढ़ावा देना दुर्गम क्षेत्रों में सभी तरह की जरूरी व्यवस्थाओं को उपलब्ध कराना और राज्य में बढ़ रहे पलायन को रोकना है इसमें हमारी सरकार से मांग है कि सरकार दुर्गम क्षेत्रों में चिकित्सा जैसी और दूसरी मूलभूत सभी सुविधाएं उपलब्ध कराएं रोजगार को बढ़ावा दें पर्यटन को उत्तराखंड में और ज्यादा बढ़ावा दिया जाना चाहिए ताकि राज्य के पहाड़ों पर हो रहे पलायन को रोका जा सके चुनौतियों के विपरीत दूसरे राज्यों में पलायन नहीं होता है और उत्तराखंड राज्य में लोग भारी संख्या में पलायन कर रहे हैं जब यह सभी बातें पूरी होंगी तभी इस यात्रा का उद्देश्य सार्थक हो पाएगा बाइट--हरिगिरि--जूना अखाड़े के राष्ट्रीय महामंत्री