ALL समाचार मनोरंजन खेल अध्यात्म देश दुनिया ब्रेकिंग राज्य ज्योतिष BUSINESS
शराब की दुकानें खोले जाने के बाद धर्माचार्यों ने की मंदिर खोलने की मांग
May 7, 2020 • सतोपथ एक्सप्रेस • समाचार
  • शराब की दुकानें खोले जाने के बाद धर्माचार्यों ने की मंदिर खोलने की मांग

विक्की सैनी

मठ मंदिरों को खोलने की अनुमति भी दे सरकार-श्रीमहंत नरेंद्र गिरी
हरिद्वार, 7 मई। कोरोना की वैश्विक महामारी को लेकर किए गए लाॅकडाउन में शराब की दुकानें खोले जाने के बाद अब मंदिरों को भी आम श्रद्धालुओं के लिए खोले जाने की मांग उठने लगी है। हरिद्वार के धर्माचार्यों और काशी विद्वत परिषद के बाद अब साधु संतों की सर्वोच्च संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने भी लाॅकडाउन में मंदिर श्रद्धालुओं के लिए खोले जाने की मांग की है। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत नरेन्द्र गिरी महाराज ने कहा है कि सरकार ने शराब की दुकानें खोली हैं तो आखिर देवालयों के दरवाजे श्रद्धालुओं के लिए अब तक क्यों रखे गए हैं। उन्होंने सरकार से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए सभी छोटे बड़े मंदिरों के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खोले जाने की मांग की है। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत नरेन्द्र गिरी महाराज ने कहा है कि मंदिर खोले जाने की मांग को लेकर अखाड़ा परिषद के महामंत्री और पंच दशनाम जून अखाड़े के संरक्षक श्रीमहंत हरि गिरि महाराज से बातचीत के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और सूबे के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को पत्र  लिखेंगे। श्रीमहंत नरेन्द्र गिरी महाराज ने कहा है कि कोरोना को लेकर पिछले डेढ़ माह से लाॅकडाउन है और लगभग दो माह से मंदिरों के कपाट बंद हैं। ऐसे में मंदिरों में पुजारियों और अन्य कर्मचारियों के वेतन देने में भी बहुत कठिनाई आ रही है। श्रीमहंत नरेन्द्र गिरी महाराज ने कहा कि जब राजस्व के लिए सरकार शराब की दुकानें खोले जाने की अनुमति दे सकती है, तो उसे दूसरी दुकानें और मंदिरों को भी खोले जाने की अनुमति दे देनी चाहिए। ताकि लोगों की रोजी-रोटी भी चलती रहे। श्रीमहंत नरेन्द्र गिरी महाराज ने कहा है कि सरकार यदि मंदिर खोलने की अनुमति देती है तो कोरोना के संक्रमण से बचाव के लिए मंदिर प्रबंधन सभी नियमों और प्रोटोकाॅल का भी पालन करेंगे। उन्होंने कहा है मंदिर खुलने से लोग यदि मंदिर में दर्शनों को जायेंगे तो अपने आराध्य से कोरोना को खत्म करने की प्रार्थना भी करेंगे। उन्होंने कहा है कि सनातन परम्परा में लोगों का ऐसा विश्वास है कि वे आराधना करेंगे तो उनके कष्ट दूर होंगे। लेकिन मंदिर बंद होने से लोग अपने आराध्य से प्रार्थना भी नहीं कर पा रहे हैं। श्रीमहंत नरेन्द्र गिरी महाराज ने कहा है कि सरकार को मंदिर खोलने पर जल्द विचार करना चाहिए और मठ मंदिरों के प्रबंधकों और पुजारियों की भी जिम्मेदारी होगी कि मंदिर खुलने पर वे सोशल डिस्टेंसिंग का श्रद्धालुओं से सख्ती से पालन करायें।