ALL समाचार मनोरंजन खेल अध्यात्म देश दुनिया ब्रेकिंग राज्य ज्योतिष BUSINESS
रुद्रपुर मेडिकल कॉलेज के आने वाले हैं अच्छे दिन
January 24, 2020 • सतोपथ एक्सप्रेस • समाचार

 

  • मेडिकल कॉलेज के बहुरेंगे दिन 

शाहिद खान रुद्रपुर ऊधमसिंह नगर 

  • रुद्रपुर मेडिकल कॉलेज के अच्छे दिन आने वाले है। 2005 से अनदेखी का शिकार हो रहे मेडिकल कालेज में भारत सरकार मेहरबान हुई है। केंद्र सरकार द्वारा रूद्रपुर मेडिकल कालेज के अधूरे निर्माण को पूरा करने ओर 300 बेड के लिए 325 करोड़ रुपये की मंजूरी दे दी गई है। नवम्बर माह में मेडिकल कॉलेज का लोकार्पण केंद्रीय मंत्री और सूबे के मुख्यमंत्री द्वारा किया जाएगा।  

ऊधमसिंहनगर के जिला मुख्यालय रुद्रपुर स्थित मेडिकल कॉलेज 2005 से सरकारी तंत्र ओर जनप्रतिनिधियो की उपेक्षा झेल रहा रूद्रपुर मेडिकल कालेज के लिए उमीद की एक किरण जागी है। किच्छा विधायक राजेश शुक्ला ने आज रुद्रपुर में प्रेसवार्ता कर कहा कि अब रुद्रपुर का मेडिकल कालेज बनने की कवायद तेज हो चूकि है। लम्बे समय से आधे अधूरे पड़े मेडिकल कालेज को बनाने के लिए पिछली सरकारों द्वारा कोई भी प्रयास नही किये गए लेकिन मौजूदा केंद्र और राज्य सरकार अब रूद्रपुर वासियों का सपना साकार करने जा रही है। मेडिकल कालेज के अधूरे निर्माण को पूरा करने के लिए राज्य और केंद्र की सरकार आगे आयी है। अधूरे पड़े मेडिकल कालेज के लिए अभी 345
करोड़ रुपये की आवश्यकता थी। जिसमे केंद्र सरकार द्वारा 325 करोड़ रुपये की स्वीकृति राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत दे दी गई है इससे पहले 18.35 करोड़ रुपये आईसीआर सीएसआर मद से मेडिकल कॉलेज को दे दिए गए है। यही नही राज्य सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने भी 2 करोड रुपए की धनराशि मेडिकल कॉलेज के लिए अवमुक्त कर दी है। उन्होंने बताया कि अब मेडिकल कॉलेज में 300 बेड का अस्पताल जल्द ही तैयार हो जाएगा जिसका लोकार्पण 28 नवंबर 2020 को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री अश्वनी चौबे और सूबे के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा किया जाएगा। उन्होंने बताया कि 28 नवम्बर 2021 में 100 छात्रो का मेडिकल कॉलेज का पहला बैच जारी करने की कोशिश भी करेंगे।  

वही राजेश शुक्ला ने क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियो पर तंज कसते हुए कहा कि 2005 से मेडिकल कॉलेज बनाने का प्रयास किया जा रहा है। लेकिन तब से लेकर अब तक मेडिकल कॉलेज का निर्माण नही हो पाया है इसमें कही ना कही स्थानीय जनप्रतिनिधियो की कमी रही है।