ALL समाचार मनोरंजन खेल अध्यात्म देश दुनिया ब्रेकिंग राज्य ज्योतिष BUSINESS
ऑपरेशन स्माइल अभियान के तहत की गुमशुदा की तलाश
January 11, 2020 • सतोपथ एक्सप्रेस • समाचार

ऑपरेशन स्माइल अभियान के तहत की गुमशुदा की तलाश

हरिद्वार ब्यूरो

पुलिस महानिदेशक उत्तराखंड अपराध एवं कानून व्यवस्था के द्वारा प्रदेश में चला जाए चलाए जा रहे ऑपरेशन शिनाख्त/ शव शिनाख्त अभियान  वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय हरिद्वार के नेतृत्व व  पुलिस अधीक्षक नगर के दिशा निर्देशन में चलाए जा रहे ऑपरेशन स्माइल व शव शिनाख्त अभियान के अनुपालन में दिनांक 10.1. 2020 को ऑपरेशन स्माइल टीम प्रथम हरिद्वार द्वारा गुमशुदा की तलाश करते हुए चंडी चौक पर पहुंचे तो टीम को एक लड़का वह लड़की लावारिस अवस्था में खड़े हुए मिले जिन्हें देखकर यह प्रतीत हो रहा था कि वह घर से भागे हुए हैं टीम द्वारा उनसे पूछताछ की गई तो उन्होंने बताया कि घर से किसी बात पर नाराज होकर हम घर से भाग आए हैं टीम द्वारा पूछने पर लड़की ने अपना नाम जयमाला पुत्री भू शंकर निवासी चांदपुर निठाई पोस्ट ऑफिस इस्लामनगर थाना थाना इस्लामनगर जिला बदायूं उत्तर प्रदेश उम्र 19 वर्ष लगभग वह लड़के ने अपना नाम मनोज पुत्र घनश्याम निवासी चांदपुर निठाई थाना वह पोस्ट इस्लामनगर जिला बदायूं उत्तर प्रदेश बताया जोकि कुछ समय बाद ऋषिकेश जाने वाले थे टीम द्वारा दोनों को कोतवाली नगर लाकर उनके थाने से संपर्क किया गया तो पता चला किन के परिवार वालों ने इनकी गुमशुदगी की प्रार्थना पत्र दीया है टीम द्वारा उनके परिवार वालों से बात की गई तो उन्होंने बताया कि दोनों घर से नाराज होकर दिनांक 9 एक 2020 को घर से चले गए थे जिनको हम तलाश कर रहे हैं टीम द्वारा सोशल मीडिया के माध्यम से दोनों के फोटो उनके परिवार वालों को भेज कर पहचान कराई गई तथा बताया गया कि वह दोनों हमारे पास कोतवाली में सुरक्षित हैं तथा शीघ्र कर इनको ले जाए परिवार वालों ने बताया कि हम जल्द से जल्द इनको लेने आ रहे हैं आज दिनांक 11.1. 2020 को दोनों के परिवार वाले व इस्लाम नगर थाने के उप निरीक्षक वह कांस्टेबल कोतवाली नगर आ गए हैं सुपुर्दगी नामा बनाकर दोनों गुमशुदा उपरोक्त को उनके चाचा नेकपाल पुत्र नेमचंद निवासी उपरोक्त तथा लड़के के मामा रामवीर पुत्र राम सिंह निवासी शेखपुरा सिरसा खुर्द बदायूं उत्तर प्रदेश की सुपुर्दगी में दिया गया तथा जीडी में तस्कर अंकित किया गया गुमशुदा के परिवार वालों द्वारा ऑपरेशन स्माइल टीम प्रथम हरिद्वार के इस कार्य की भूरी भूरी प्रशंसा की गई जिसके फल स्वरुप उनके बच्चे उनको मिल पाए हैं