ALL समाचार मनोरंजन खेल अध्यात्म देश दुनिया ब्रेकिंग राज्य ज्योतिष BUSINESS
कोरोना वायरस से बचने के लिए करे यज्ञ और योग अपनाये ये नुस्खे : स्वामी रामदेव-कैलाशानंद ब्रह्मचारी
March 16, 2020 • सतोपथ एक्सप्रेस • समाचार
  • कोरोना से कैसे बचें देखें बाबा रामदेव के सुझाव एवम नुस्खे

जहाँगीर मलिक

कोरोना वायरस से बचने के लिए करे यज्ञ और योग अपनाये ये नुस्खे स्वामी रामदेव,कैलाशानंद ब्रह्मचारी

कोरोना वायरस ने पूरे विश्व में अपना आतंक मचाया हुआ है और इस वायरस की वजह से कई लोग अपनी जान भी गवां चुके हैं भारत में भी इस वायरस के कई मरीज पाए गए हैं और एक की मौत भी हो गई है इस वायरस से बचने के लिए योग गुरु स्वामी रामदेव ने आज अपने पतंजलि रिसर्च फाउंडेशन में आयुर्वेदिक और योग के उपचार बताएं उन्होंने कहा कि एक ऐसा लेप बनाया है जिसको हाथों में लगाने से किसी भी तरह का वायरस निष्प्रभावी हो जाता है इस लेप में तुलसी नीम गिलोय शामिल है

कोरोना वायरस से बचाव के लिए पतंजलि योगपीठ द्वारा एक लेप बनाने का दावा किया गया है जिसको इस्तमाल करके इस वायरस से बचा जा सकता है पतंजलि लैब में इस लेप का परीक्षण किया गया है योग गुरु बाबा रामदेव का कहना है कि इस वायरस से सिर्फ सावधानी ही बचा सकती है रामदेव का कहना है कि पूरे विश्व में अब तक पाच हजार से ज्यादा इस वायरस की वजह से लोगों की मौत हो चुकी है और 70 हजार से ज्यादा लोगों को बचाया जा चुका है अब तक इस वायरस पर जितने भी शोध हुए हैं उसे चार बातें सामने आई है जिन लोगों की इम्यूनिटी है और अस्थमा दमा सांस की प्रॉब्लम है इन लोगों को मौत का ज्यादा खतरा है साथ हार्ट और डायबिटीज के लोगों को भी इस वायरस से काफी खतरा है इन लोगों के लिए सबसे उत्तम विधि है योग और आयुर्वेद इस वायरस से बचने का सबसे सरल उपाय है पानी में नीम के पत्त उबालकर उसमें कपूर और फिटकरी डालें यह एक नेचुरल सैनिटाइजर बन जाता है और हाथ धोने के लिए नीम के साबुन का प्रयोग किया जाए इसे कोरोना वायरस से बचा जा सकता है। वही अग्नि अखाड़े के महामंडलेश्वर कैलाशानंद ब्रह्मचारी महाराज ने बताया के शास्त्रों और साइंटिस्ट ने भी बताया हैं। के कोरोना वायरस से बचने के लिए यज्ञ करें । क्योंकि यज्ञ करने से कोरोना जैसे वायरस खत्म हो जाते हैं। वैसे गंगा के किनारे कोई वायरस आता ही नही है। और जो वायरस आता हैं। वो स्वतः ही समाप्त हो जाता हैं। गंगा एंटी वायरस की जननी है।इस लिए गंगा किनारे पर इस यज्ञ का आयोजन किया जा रहा हैं।