ALL समाचार मनोरंजन खेल अध्यात्म देश दुनिया ब्रेकिंग राज्य ज्योतिष BUSINESS
खुले मठ मंदिर श्रद्धालुओं ने किया गंगा में स्नान
June 8, 2020 • सतोपथ एक्सप्रेस • समाचार

 

हरिद्वार धर्मनगरी हरिद्वार में लॉक डाउन के बाद आज श्रद्धालु हर की पौड़ी ब्रह्मकुंड पर मां गंगा में आस्था की डुबकी लगाने पहुंचे। इसके साथ ही हरिद्वार के तमाम प्रसिद्ध मंदिर भी आज श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए। भारत सरकार की गाइडलाइन के बाद आज तमाम प्रसिद्ध मंदिर और गंगा घाट श्रद्धालुओं के लिए खोले गए श्रद्धालुओं की सुरक्षा को देखते हुए हर की पौड़ी ब्रह्मकुंड पर गंगा सभा द्वारा श्रद्धालुओं का सैनिटाइज थर्मल स्कैनिंग के साथ सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन कराया जा रहा है। इस के साथ ही हरिद्वार की विश्व प्रसिद्ध मनसा देवी पर मंदिर प्रबंधक द्वारा पूरी तरह से सैनिटाइज कराया गया उसके बाद मां मनसा देवी की भव्य आरती की गई गंगा स्नान और मठ मंदिरों के दर्शन कर श्रद्धालु भी काफी खुश नजर आए। हरिद्वार के सभी मठ मंदिर आश्रम भी श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए और मठ मंदिरों में गूँजने लगे घंटे घड़ियाल 52 शक्तिपीठों में से एक और सभी शक्ति पीठों की जननी मां माया देवी मंदिर सहित भगवान शिव की ससुराल दक्षेश्वर महादेव मंदिर, मां मनसा देवी मंदिर और माँ चंडी देवी मंदिर आज सरकार की गाइडलाइन का पालन करते हुए खोले गए हर की पौड़ी गंगा स्नान करने वाले श्रद्धालुओं में उत्साह देखने लायक था ।श्रद्धालुओं का कहना है ।कि लॉक डाउन लगने के बाद से ही उनके द्वारा गंगा में स्नान नहीं किया गया था । मगर आज गंगा स्नान करके उनको काफी अच्छा लग रहा है और मां गंगा कोरोना महामारी को खत्म करेगी।

हर की पौड़ी के साथ-साथ हरिद्वार के तमाम प्रसिद्ध मंदिर भी आज श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए। हरिद्वार मां मनसा देवी मंदिर में कपाट खोलने से पहले पूरे मंदिर को सैनिटाइज किया गया। और उसके बाद मंदिर में मां मनसा देवी की भव्य आरती की गई। जिसमें श्रद्धालुओं ने भी भाग लिया। मनसा देवी मंदिर के अध्यक्ष महंत रवींद्र पुरी का कहना है। कि आज तकरीबन 3 महीने के बाद मनसा देवी मंदिर श्रद्धालुओं के लिए खोला गया है। मंदिर में श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए सैनिटइज मशीन भी लगाई गई है। और साथ ही हमारे द्वारा मंदिर पुजारियों को निर्देश दिए गए हैं। श्रद्धालुओं को टीका ना लगाएं और ना ही प्रसाद चढ़ाएं जो भी श्रद्धालु मां मनसा देवी के दर्शन करें वह सूक्ष्म रूप से मां को भोग लगाएं। हमारे द्वारा भारत सरकार की गाइडलाइन का पालन किया जाएगा। धार्मिक स्थल खुलने से उत्तराखंड का विकास भी होगा हम मां गंगा से प्रार्थना करते हैं। उत्तराखंड की खुशहाली वापस आए।