ALL समाचार मनोरंजन खेल अध्यात्म देश दुनिया ब्रेकिंग राज्य ज्योतिष BUSINESS
खिलाड़ियों को नही मिले अभी तक चैक
February 29, 2020 • सतोपथ एक्सप्रेस • समाचार

 

  • खिलाड़ियों को नही मिले अभी तक चैक

संजय कुँवर जोशीमठ


औली विंटर गेम्स के पदक विजेता उत्तराखण्ड के स्कीइंग खिलाड़ियों को अबतक नगद पुरस्कार के चैक नही मिले,खेलो इंडिया के तहत हुए थे औली में नेशनल स्कीइंग एंड स्नो बोर्ड प्रतियोगिता का आयोजन,स्कीयरों के अभिभावकों नें  धन राशि नही मिलने पर जताई कड़ी नाराजगी,
खेलो इंडिया के तहत उत्तराखण्ड के खूबसूरत हिमक्रीड़ा स्थली औली की मेजबानी में विगत 8फरवरी से 10फरवरी तक आयोजित नेशनल स्कीइंग एंड स्नो बोर्डिंग प्रतियोगिता हुई जिसमे मेजबान उत्तराखण्ड के लिए जोशीमठ के स्थानीय स्कीइंग खिलाड़ियों नें जूनियर वर्ग में एक स्वर्ण 3रजत 2ब्रोंज मेडल सहित कुल 6पदक जीते थे,जिसके लिए उन्हे मेडल और प्रमाण पत्र दिये गए, शेष नगद पुरस्कार की राशि के लिए  उत्तराखण्ड सरकार के लोगो लगे यश बैंक के डेमो चैक फोटो क्लिक करने के लिए रखे गए कैश धन राशि अभी तक विजेता खिलाड़ियो को नही मिल सकी है,इस बावत जब जिला पर्यटन अधिकारी चमोली बी०सी०पांडे से बात की गई तो उन्होंने मामले का संज्ञान लेते हुए कहा की जल्द ही मामले की जांच कर स्कीइंग खिलाड़ियों को ईनामी धनराशि दे दी जाएगी,पदक विजेता जोशीमठ के स्थानीय स्कीइंग खिलाडियों को अबतक पुरस्कार में मिली नगद धनराशि नही मिलने से इन खिलाड़ियों के अभिभावकों नें आयोजकों से जल्द उनके पदक विजेता नोनिहालों को मिलने वाली पुरस्कार धनराशि शीघ्र देने की की मांग कि है,बता दें की मेजबान उत्तराखण्ड की स्कीइंग जूनियर टीम से खेलते हुए जोशीमठ के कई होनहार बच्चो नें अपने खुद के सीमित संसाधनों के बाबजूद पहली बार प्रदेश को स्वर्ण पदक सहित कई अन्य मेडल दिला कर उत्तराखण्ड को पदक तालिका में सम्मानजनक स्थान दिलाया था,लेकिन आयोजकों नें पदक विजेता खिलाडियों को पोडियम में खड़े कर मेडलों के साथ सिर्फ एड वाले धनराशि लिखे चेक फोटो खिचवानें के लिए दिये लेकिन कैश धन राशि कब कहाँ कोन कैसे मिलेगी खिलाड़ियों को ये बताने वाला कोई नही है,जिसको लेकर अब इन पदक विजेता खिलाडियों के अभिभावकों नें आयोजको से जल्द इन विजेता खिलाडियों की इनाम की धनराशि  दिलाने की मांग की है,स्कीइंग जूनियर केटीगरी में  उत्तराखण्ड को स्वर्ण पदक दिलाने वाले कवांण की माँ रुक्मणी देवी, रजत पदक विजेता महक कवांण की माँ सुभद्रा देवी, सहित कई अन्य पदक विजेताओ के अभिभावकों का कहना है कि खेलो इंडिया के तहत अब जम्मू कश्मीर गुलमर्ग में एक मार्च से शुरू हो रहे शीतकालीन खेलों के लिए उत्तराखण्ड प्रदेश की स्कीइंग टीम से एकबार फिर से हमारे नोनिहाल प्रतिभाग करने जा रहे है कहा की समय पर बच्चो को धन राशि मिल जाती तो कुछ मदद हो जाती बड़ी बात ये कि आखिर इन खेलों की नगद ईनामी धनराशि के चैक  अभी तक इन खिलाड़ियों के पास कैसे नही पहुँच सके,ये किसकी लापरवाही है,ऐसे में ये  इन विजेता खिलाडीयों को खुद को ठगा सा मेहसूस करना लाजमी है, इस तरह से सूबे के इन पदक विजेता खिलाड़ियों को आगे इंटरनेशनल लेबल पर बढावा कैसे मिलेगा,