ALL समाचार मनोरंजन खेल अध्यात्म देश दुनिया ब्रेकिंग राज्य ज्योतिष BUSINESS
जिलाधिकारी  सविन बंसल ने बीडी पाण्डे पुरूष एवं महिला चिकित्सालयों का किया निरीक्षण
December 18, 2019 • सतोपथ एक्सप्रेस • समाचार
 
ललित जोशी
 
नैनीताल । जिलाधिकारी  सविन बंसल की अनेको बार हिदायत देने के बाद भी सरकारी अस्पतालों के चिकित्सक बाहर की दवाईयाॅ लिखने की आदत नहीं छोड़ पा रहे हैं, जबकि सरकार एवं शासन के स्पष्ट एवं सख्त आदेश हैं कि मरीजों को बाहर की दवाईयाॅ कतई न लिखी जाए। 
यदि दवाईयाॅ स्टोर में उपलब्ध न हों तो स्थानीय बाजार से क्रय कर मरीजों को निःशुल्क उपलब्ध करायी जायें। बुद्धवार को जिलाधिकारी  सविन बंसल ने बीडी पाण्डे पुरूष एवं महिला चिकित्सालयों में लगभग 4 घण्टे के व्यापक निरीक्षण के दौरान मरीजों ने बताया कि के अस्पताल के डाॅक्टर बाजार की दवाईयाॅ लिख रहे हैं। इन मरीजों के बयान जिलाधिकारी के निर्देश पर उप जिलाधिकारी विनोद कुमार ने लिए। जबकि चिकित्सा अधीक्षकों का दावा था कि शतप्रतिशत दवाईयाॅ अस्पताल के स्टोर से दी जा रही हैं। 
जिलाधिकारी के निरीक्षण एवं मरीजों से वार्ता के दौरान चिकित्सा अधीक्षकों के दावे पर 7 मरीजों- नर्मदा पन्त, मंगल सिंह चैहान, शारदूल कुमार, शिवानी मेहरा, आशा, रेवती जोशनी ने पानी फेर दिया। जब डीएम ने चिकित्सा अधीक्षकों से पूछा तो वे बगले झाकने लगे। 
हुआ यूॅ कि जब जिलाधिकारी चिकित्सालय का निरीक्षण कर रहे थे तो अस्थि विशेषज्ञ डाॅ. संजीव प्रकाश से ईलाज करा रहीं माॅ-बेटी जो बाहर बैठी थी से जब डीएम ने पूछा तो उन्होंने बताया कि वे डाॅक्टर संजीव से ईलाज करा रही हैं और वह बाजार की दवाईयाॅ लिख रहे हैं। 
मजबूरन उन्हें बाजार से दवाईया लेनी पड़ रही हैं, वार्ता के दौरान माॅ-बेटी की मजबूरी व लाचारी भी झलक रही थी। इस बात पर नाराज जिलाधिकारी ने डाॅ.संजीव का तीन दिन के भीतर जवाब तलब करने के आदेश दिए। 
उन्होंने कहा कि यदि डाॅक्टर का जवाब संतोष जनक नहीं पाया गया तो उनके प्रतिकूल प्रविष्टि एवं निलम्बन की संस्तुति शासन को भेजी जाएगी। 
जिलाधिकारी ने बीडी पाण्डे पुरूष चिकित्सालय के निरीक्षण के दौरान शिकायत पंजिका देखी तथा उसमें स्पष्ट काॅलम व अंकन न होने पर चिकित्साधीक्षक  से नाराजगी व्यक्त की।
 उन्होंने निर्देश दिए कि अस्पताल से विशेष परिस्थितयों में जो भी मरीज रेफर किए जा रहे हैं, उनके रेफर होने का स्पष्ट कारण पंजिका में दर्ज किया जाए। उन्होंने इंजेक्शन रूम के निरीक्षण के दौरान निर्देश दिए कि पर्याप्त मात्रा में एआरवी व एन्टीडोट रखे जाए तथा किसी भी दशा में इनकी कमी नहीं होनी चाहिए। उन्होंने वर्तमान एक्स-रे कक्ष में सीलन में सीलन व नमी को देखते हुए एक्स-रे कक्ष को बाहर जन औषधि कक्ष के पास शिफ्ट करने के आदेश दिए तथा खराब पड़ी एक्स-रे मशीन को जल्दी ठीक कराने तथा नई मशीन को क्रय करने का भरोसा जिलाधिकारी ने दिया। 
  श्री बंसल  औषधि भण्डारण कक्ष के निरीक्षण के दौरान निर्देश दिए कि एक्सपायरी डेट की दवाईयों का नियमानुसार व्यवस्थित ढंग से निस्तारण किया जाए। उन्होंने निरीक्षण के दौरान जिरियाट्रिक वार्ड में 5 हीटर तुरन्त खरीद कर लगाने के निर्देश दिए। ओपीडी कक्षों के निरीक्षण के दौरान ओपीडी कक्षों के बाहर कन्ट्रोल रूम/शिकायत रूम का नम्बर लिखने के निर्देश दिए। उन्होंने नेत्र ओपीडी कक्ष के बाहर चैनल को खोलने व तीन फीट ऊॅची रेलिंग लगाने के निर्देश दिए। इसके साथ ही श्री बंसल ने एक्स-रे रूम, जिरियाट्रिक वार्ड, इमर्जेंसी वार्ड, प्री-आॅपरेशन वार्ड, आॅपरेशन थिएटर आदि का भी निरीक्षण किया। 
श्री बंसल ने बीडी पाण्डे महिला चिकित्सालय के निरीक्षण के दौरान आधे-अधूरे निर्मित प्राईवेट वार्ड का पुनः आगणन बनाकर तत्काल प्रस्तुत करने, रास्तें में टाईल्स लगाने, नाले के मरम्मत करने, बेबी वार्मर रूम में लाईटिंग के साथ ही रेम्प बनाने के निर्देश अधिशासी अभियंता लोनिवि को दिए। उन्होंने महिला चिकित्सालय की भूमि पर काबिज अवैध कब्जेदारों से जगह खाली कराने के निर्देश उप जिलाधिकारी विनोद कुमार को दिए। 
उन्होंने निरीक्षण के दौरान जच्चा-बच्चा वार्ड के लिए तुरन्त 5 हीटर खरीद कर लगाने के निर्देश मुख्य चिकित्साधीक्षक को दिए। इसके साथ ही उन्होंने महिला चिकित्सालय के विभिन्न वार्डों का निरीक्षण करते हुए महत्वपूर्ण दिशा दिर्नेश दिए।  
निरीक्षण के दौरान नगर पालिका अध्यक्ष सचिन नेगी, सभासद मनोज जगाती, सांसद प्रतिनिधि आनन्द बिष्ट के अलावा मनोज जोशी, अरविन्द पडियार सहित उप जिलाधिकारी विनोद कुमार, सीएमओ डाॅ.भारती राणा, डीएसटीओ एलएम जोशी, अधिशासी अभियंता विद्युत एसएस उस्मान, लोनिवि डीएस कुटियाल, ग्रामीण निर्माण विभाग विनीत कुरील, मुख्य चिकित्साधीक्षक डाॅ.वीके पनेरू सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे ।