ALL समाचार मनोरंजन खेल अध्यात्म देश दुनिया ब्रेकिंग राज्य ज्योतिष BUSINESS
हिमक्रीड़ा स्थली औली के आएंगे अच्छे दिन
November 20, 2019 • सतोपथ एक्सप्रेस • राज्य

संजय कुंवर औली

हिमक्रीड़ा स्थली औली 
देश की सबसे खूबसूरत हिमक्रीड़ा स्थली और अंतराष्ट्रीय शीतकालीन खेलों के लिए मशहुर उत्तराखंड की "औली" में विंटर स्पोर्ट्स के चहेतों और स्कियरों के अच्छे दिन आने वाले है, जी हाँ सूबे का पर्यटन महकमा अब औली की सूनी पड़ी ढलानो पर आगामी वर्ष 2020 में पहली इंटर नेशनल स्कीइंग रेस का आयोजन की तयारी जोर शोर से कर रहा है, बड़ी बात ये की औली की नन्दादेवी इंटर नेशनल स्कीइंग स्लोप की FIS से मान्यता इस वर्ष समाप्त हो रही है, ऐसे में नयी मान्यता दिलाना सरकार की नाक का सवाल भी बन चुका है,इसलिये उत्तराखण्ड सरकार का पर्यटन विभाग हर हाल में 2020में यहाँ एक इंटर नेशनल FIS स्कीइंग रेस का आयोजन करके औली की स्कीइंग स्लोप की मान्यता बरकरार रखने हेतु प्रतिबद्ध दिख रही है,इसी को लेकर इन बरफानी खेलों के लिये बनी अंतराष्ट्रीय संस्था FIS फेडरेशन ऑफ इंटरनेशनल स्कीइंग के मुख्य  प्रशिक्षक जेरार्ड बनार्ड नें औली की स्कीइंग स्लोपों  के लिए नई स्तर से मान्यता के लिए स्लोप होमोलोगेशन का भी निरीक्षण कर लिया है,और औली में  प्रस्तावित FIS रेस से पूर्व स्कीइंग स्लोपों में सुधार को लेकर  FIS के प्रतिनिधि ने कुछ सुझाव भी दिए है,उन्होंने ये महत्वपूर्ण बात कही कि उत्तराखंड में इस तरह कि पहली FIS रेस के सफल आयोजन के लिए सूबे की सरकार को एक FIS रेस आयोजन टीम बनाकर उसे यूरोप में होने वाले FIS स्कीइंग रेस को देखने की सलाह दी है ताकि वहाँ का अनुभव औली में होने वाली FIS रेस में काम आ सके, 
वही इसपर एडवेंचर एसोसिएशन जोशीमठ के अध्यक्ष विवेक पंवार का कहना है की खुशी की बात है कि औली को फिर से FIS रेस की मेजबानी मिल रही है,लेकिन स्लोप की मान्यता को लेकर उनका कहना था कि कम बर्फबारी के चलते विगत कई वर्षो से औली की नन्दादेवी स्लोप पर SAIF विंटर गैम्स 2010-11 से आजतक कोई इंटर नेशनल स्कीइंग एवेंट नही पाये सके,और न ही यहाँ लगी साढे 6करोड़ की स्नो मेकिंग सिस्टम बर्फ बना सका आजतक ऐसे में यहाँ अगर FIS रेस हो रही तो ये औली के विकास के लिए मील का पत्थर साबित हो सकता है, 
नंदादेवी FIS स्लोप में सुधार हेतु ये है सुझाव,,,,,,,, 
1,स्लोप में पड़े बड़े नुकीले पत्थर हटाये जाय, 
2,स्लोप के दोनो और ड्रेनेज व्यवस्ता हो, 
3, जोन में सुरक्षा दीवार बने, 
4,यूरोप भेजी जाय उत्तराखंड की एक टीम,