ALL समाचार मनोरंजन खेल अध्यात्म देश दुनिया ब्रेकिंग राज्य ज्योतिष BUSINESS
देवभूमि में पांडव नृत्य की शुरुआत ,पहाड़ की संस्कृति देखते बनती है
December 22, 2019 • सतोपथ एक्सप्रेस • समाचार

संजय कुँवर किमाणा


  • सीमांत जिला चमोली के जोशीमठ ब्लॉक के दुरस्त उच्चहिमालयी गाँव किमाणा में बर्फबारी के बाद अब पौराणिक धार्मिक एवं सांस्कृतिक देव पर्व पांडव उत्सव की धूम देखने को मिल रही है,आप इन तस्वीरों मेन देख सकते है कि केसे आस्था बर्फबारीपर भारी पढ़ रही है,ग्रामीण और देव अवतारी बर्फ की परवाह किये बगेर देवनृत्य मे मशगूल है,आज भी डिजिटल इंडिया के इस दौर  में पहाडो में लोगों नें अपनी बेशकीमती धार्मिक मान्यतायें और परम्परा संजो कर रखी है,बता दें की पहाडो में शीतकाल में छेत्र की खुशहाली के लिए पाँडव नृत्य का आयोजन किया जाता है,7दिन तक चलने वाले इस धार्मिक आयोजन में महाभारत के खास पात्र पांडवों सहित अन्य देवगणों के अवतारी पश्वा गाँव के कुछ चुने लोग होते जिनपर युधिष्टर,अर्जुन ,भीम, नकुल, सहदेव, माँता कुन्ती,हनुमान,सहित अन्य भगवांन श्रीकृष्ण के अवतारी महिला/पुरुष पात्र गाँव के पांडव चौक में 7दिनों तक दिन और रात के पहर में पारंपरिक वेषभूषा में ढोल दमों की थाप पर महाभारत के कई प्रसंग को नृत्य के माध्यम से उजागर करते है,